Bihar Board Monthly Exam Result 2023 | बिहार बोर्ड मासिक परीक्षा का रिजल्ट यहाँ से देख पायेंगे छात्र – Direct Link

Bihar Board Monthly Exam Result 2023 – माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों (नौवीं से 12वीं) के छात्रों को मासिक मूल्यांकन की उत्तर पुस्तिका का आकलन किया जाएगा। छात्रों ने प्रश्न का उत्तर देने में क्या गलतियां की। इसको लेकर विषयवार शिक्षक प्रत्येक छात्रों को बताएंगे और उसका समाधान भी करेंगे। यह आदेश माध्यमिक शिक्षा के निदेशक कन्हैया प्रसाद श्रीवास्तव ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी दिया है। सभी स्कूलों को मासिक मूल्यांकन की उत्तरपुस्तिका संबंधित छात्रों को वापस करनी है।

ग़लती देखने को मिलेगी उत्तर पुस्तिका – मासिक परीक्षा का रिजल्ट

सितंबर में नौवीं से 12वीं तक कक्षा का मासिक मूल्यांकन किया गया था। लेकिन स्कूल प्रशासन ने उत्तर पुस्तिकाएं विद्यालयों में ही रख ली थी। इससे विद्यालय में ही कबाड़ जमा हो गया है। अब इसको लेकर माध्यमिक शिक्षा ने स्कूलों को उत्तरपुस्तिका छात्रों को वापस करने का आदेश दिया है।

Bihar Board Monthly Exam Result 2023

मासिक मूल्यांकन का मकसद-मासिक परीक्षा का रिजल्ट

मासिक मूल्यांकन का मकसद छात्रों में सुधार करना है: बिहार बोर्ड के अनुसार मासिक मूल्यांकन के माध्यम से छात्रों की त्रुटि में सुधार करना है। जब तक छात्रों को उनकी गलतियों में सुधार नहीं किया जाएगा, तब तक छात्र एक ही गलती को दुहराते रहेंगे। इस कारण यह निर्णय लिया गया है कि मासिक मूल्यांकन के माध्यम से छात्रों की त्रुटि में सुधार संबंधित विषय के शिक्षक करेंगे।

Bihar Board Monthly Exam Result 2023 – Overview

परीक्षा का स्तरमाध्यमिक और उच्च माध्यमिक
कक्षाएंनौवीं से 12वीं
परीक्षा तिथि25 सितंबर से 4 अक्टूबर 2023
परीक्षा का उद्देश्यछात्रों में सुधार करना
परीक्षा में शामिल छात्र60 लाख से अधिक
उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकनसंबंधित विषय के शिक्षक करेंगे
उत्तर पुस्तिकाओं को छात्रों को वापस करने की तिथि6 नवंबर 2023 तक

शिक्षकों की डायरेक्टरी करें अपडेट

माध्यमिक स्तर के विद्यालयों के शिक्षकों की डायरेक्टरी अब 6 नवंबर तक अपडेट किये जाएंगे। पहले यह तिथि 20 अक्टूबर तक थी। जो स्कूल छह नवंबर तक अपडेट नहीं करेंगे, उनके ऊपर कठोर कार्रवाई के लिए बिहार बोर्ड शिक्षा विभाग को अनुशंसा करेगा।

60 लाख से अधिक छात्र हुए थे शामिल

मासिक मूल्यांकन में राज्य भर से 60 लाख से अधिक छात्र शामिल हुए थे। सारी परीक्षाएं मिलाकर सौ से अधिक विषय शामिल था। हर विषय की परीक्षा लेने के बाद उत्तरपुस्तिका स्कूल में ही रह गया। ऐसे में स्कूल में फिर से कबाड़ की स्थिति बन गई है।

छात्रों को मिलेंगी कॉपियां, अपनी गलती देखेंगे

मासिक मूल्यांकन के दौरान 9वीं से 12वीं के बच्चों ने किन-किन सवालों के जवाब नहीं दिए, उत्तर में क्या-क्या गलती थी और क्यों उन्हें कम अंक मिले हैं, इसकी जानकारी मिल सकेगी। सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं तक की होने वाली मासिक परीक्षा में मूल्यांकन के बाद कॉपियां बच्चों को दी जाएंगी। मकसद यह है कि बच्चे खुद की गलती देख कर इसमें सुधार करते हुए अगली परीक्षाओं में इसे न दोहराएं। साथ ही संबंधित विषय के शिक्षक एक-एक विद्यार्थी को बुलाकर समझाएंगे कि उसका सही उत्तर क्या है।

डीइओ ने दिया आदेश-मासिक परीक्षा का रिजल्ट

माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने सभी जिलों के डीइओ को पत्र भेजकर कहा है कि विद्यार्थियों को मासिक परीक्षा की उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन के बाद उपलब्ध कराने का निर्देश जारी किया जाए। हाल ही में निरीक्षण में यह बात समझ में आई कि सितंबर माह में जो मासिक परीक्षाएं ली गई थीं, उसमें कई जगहों पर उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन ही नहीं हुआ था। जहां मूल्यांकन हुआ था, वहां प्रधानाध्यापक ने वह उत्तर पुस्तिकाएं विद्यालयों में ही रख ली थीं जिससे विद्यालय में भी कबाड़ जमा हो गया था। उत्तर पुस्तिकाओं को समयबद्ध तरीके से मूल्यांकित करते हुए वापस विद्यार्थियों को लौटा दी जाए। विभाग ने कहा है कि इससे जानकारी मिलेगी कि मासिक परीक्षाओं का मूल्यांकन समय पर हो गया है या नहीं और साथ ही विद्यालय में कबाड़ का अंबार खड़ा होने की आशंका भी नहीं रहेगी।

Join Telegram GroupClick Here
Join WhatsApp GroupClick Here

ये भी पढ़े:

Shubham Kumar
Shubham Kumar
Shubham Kumar is a passionate blogger with a deep interest in providing the latest information on jobs, education, scholarships, and government schemes. His mission is to empower his readers with the knowledge they need to achieve their goals and lead fulfilling lives.

Comments (3)

Leave a Comment