Project Tiger Yojana 2022 | Project Tiger Yojana Kya Hai, जाने संपूर्ण जानकारी – Very Useful

Project Tiger Yojana 2022 | Project Tiger Yojana Kya Hai | प्रोजेक्ट टाइगर क्या है ?

Project Tiger Yojana 2022

Project Tiger Yojana:- आज के इस लेख में हम आपको project tiger yojana के बारे में जानकारी देने वाले है। इस योजना के नाम से ही आपको पता चल गया होगा कि यह योजना बाघों के लिए बनाई गई है।

आप सभी लोगो को यह बात पता ही होगी कि दिन ब दिन हमारे देश मे बाघों की संख्या बहुत तेजी से कम हो रही है। यदि हैं कुछ वर्षों पहले की बात करे तो हमारे देश मे बाघों की संख्या बहुत ज्यादा थी, परंतु अब ऐसा नही रहा है। आज यदि हम बाघों की बात करे तो बहुत कम बाघ हमारे देश मे बचे हुए है। यही कारण है कि हमारे देश के सरकार ने प्रोजेक्ट टाइगर योजना शुरू की है।

Project Tiger Yojana
Project Tiger Yojana

बहुत कम ऐसे लोग होंगे जिन्हें इस योजना के बारे में जानकारी होगी। परंतु ज्यादातर लोगों को इस योजना के बारे में पता ही नही है, बहुत से लोग तो ऐसे भी होंगे जिन्होंने पहली बार इस योजना का नाम सुना होगा।

यदि आप नही जानते कि प्रोजेक्ट टाइगर योजना क्या है, तो कोई बात नही। क्योंकि इस लेख में हम आपको इस योजना के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले है। तो चलिए अब हम आपको बताते है कि आखिर प्रोजेक्ट टाइगर योजना क्या है।

Project Tiger Yojana 2022: Overview

Post NameProject Tiger Yojana (प्रोजेक्ट टागर योजना)
Post CategorySarkari Yojana
Post Date13/03/2022
CountryIndia

Project Tiger Yojana Kya Hai (प्रोजेक्ट टाइगर योजना क्या है ?)

जैसे कि हमने आपको बताया है कि यह एक बाघ योजना है जो कि बाघों के संरक्षण के लिए बनाई गई है। इस योजना को अप्रैल 1973 में भारत सरकार द्वारा भारत के प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा शुरू किया गया था। इस योजना को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण द्वारा भी प्रशासित किया गया है। यदि हम इस योजना के उद्देश्य की बात करे तो इस योजना को बाघों के संरक्षण और बाघों को विलुप्त होने से बचाना है। इस पूरे योजना के प्रशासन की निगरानी के लिए एक संचालन समिति बनाई गई है, जो कि इस पर अपनी नजर रखती है।

यदि हम इस प्रोजेक्ट टाइगर योजना के सफलता की बात करे तो यह योजना पूरी तरह से सफल हुई है।  रिसर्च के अनुसार पता चला है कि पहले बाघों की संख्या 1200 थी जो कि अब 5000 तक हो गयी है। इस योजना के लिए जिस संचालन समिति को बनाया है वह समिति भी पूरी लगन के साथ अपना काम कर रही है, और यही कारण है कि आज बाघों की संख्या बढ़ गयी है। इस योजना की खास बात यह है कि इसमे अब तक पचास राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य शामिल किए गए है। तो अब आप जान चुके है कि प्रोजेक्ट टाइगर योजना क्या है।

List Of Tiger Reserve In India (टाइगर रिज़र्व की सूची क्या है?)

जैसा कि आप सभी लोग जानते है कि प्रोजेक्ट टाइगर योजना यह केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई है और इसी के चलते भारत देश मे पूरे 50 टाइगर रिज़र्व शुरू किए गए है जो कि 18 राज्यो में फैले हुए है। तो चलिए अब हम आपको नीचे टाइगर रिज़र्व की सूची बताते है।

  • कर्नाटक राज्य

टाइगर रिज़र्व – बांदीपुर, भद्र, दांडेली – अंशी, नागरहोल, बिलगिरी रंगनाथ मंदिर

  • मध्य प्रदेश राज्य

टाइगर रिज़र्व – पन्ना, कान्हा, पेंच, बांधवगढ़, सतपुड़ा, संजय – दुबरी

  • महाराष्ट्र राज्य

मालघाट, तडोबा – अंधेरी, पेंच, सह्याद्रि, नवगांव नगजीरा, बोर

  • तमिलनाडु राज्य

कलक्कड़ मुंडनथुरई, अन्नामलाई, मुदुमलाई, सत्यमंगलम,

  • असम राज्य

मानस, नामेरी, काजीरंगा, ओरेंग

  • राजस्थान

रणथंबोर, सरिस्का, मुकुन्द्रा हिल्स,

  • उत्तराखंड

कॉर्बेट, राजाजी टाइगर रिज़र्व

  • उत्तर प्रदेश

दुधवा, पीलीभीत

  • झारखंड

पलामू

  • ओडिशा

सिमलीपाल, सतकोसिया

  • पश्चिम बंगाल

सुंदरबन, बुक्सा

  • छत्तीसगढ़

इंद्रावती, उदन्ती – सीतानदी, अचानकमार

  • अरुणाचल प्रदेश

नामदफा, पाक्के, कमलांग

  • बिहार

वाल्मीकि

  • मिज़ोरम

दंफा

  • केरल

पेरियार, पेराम्बीकुलम

  • तेलंगाना

कवाल,  अमराबाद

  • आंध्र प्रदेश

नागार्जुन  सागर –  श्रीशैलम

ऊपर हमने आपको टाइगर रिज़र्व की पूरी सूची बता दी है। चलिए अब हम आपको प्रोजेक्ट टाइगर की कुछ सफलताएं बताते है।

Sucess Of Project Tiger Yojana (प्रोजेक्ट टाइगर की सफलताएं क्या है ?)

वैसे तो प्रोजेक्ट टाइगर को बहुत सी सफलताएं प्राप्त हुई है, परंतु हम आपको यह पर केवल कुछ मुख्य सफलताएं ही बताने वाले है। तो चलिए नीचे हम आपको प्रोजेक्ट टाइगर की सफलताएं बताते है।

  1. इस योजना के कारण हर साल बाघों में  वृद्धि होती जा रही है। क्योंकि साल 2014 में कुल बाघों की संख्या 2,226 थी जो अब बढ़कर 2500 के ऊपर चली गयी है।
  • ऐसा कहा जा रहा है कि 2022 खत्म होते होते बाघों की संख्या 6000 से भी ऊपर हो जाएगी और यह एक सबसे बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी।
  • यदि हम टाइगर रिज़र्व के कुल संख्या की बात करे तो यह 1973 में केवल 9 थी जो कि आज 50 तक हो गयी है। और सबसे खास बात यह है कि यह भारत देश के 18 राज्यो में फैला हुआ है।

तो अब आपने प्रोजेक्ट टाइगर की सफलताएं क्या है यह भी जान लिया है। चलिए अब हम आपको यह बताते है कि वैश्विक टाइगर फोरम क्या होता है। 

What is Global Tiger Forum? (वैश्विक टाइगर फोरम क्या है ?)

क्या आपको पता है कि पूरी दुनिया मे दिन ब दिन बाघों की संख्या घटती ही जा रही है। बाघों की घटती संख्या के कारण कई देशों में बाघों को बचाने और उनका संरक्षण करने के लिए प्रयास किये जा रहे है। साल 1900 में पूरी दुनिया मे बाघों की संख्या करीब करीब 1 लाख थी परंतु आज घटकर 4000 बाघों तक रह गयी है,

जिसमे भी ज्यादातर बाघ हमारे देश यानी कि भारत मे ही है और इसके लिए भारत देश ने कई प्रयास भी किये है। तो भारत देश के इसी सफलता को देखकर दिल्ली में एक सम्मेलन हुआ था और यह सम्मेलन वैश्विक स्तर पर हुआ था और हा इसी सम्मेलन में टाइगर फोरम की स्थापना की गई थी। तो अब आप समझ गए होंगे कि वैश्विक टाइगर फोरम यह बाघों के संरक्षण के लिए चलाई जा रही योजना ही है।

Conclusion | निष्कर्ष – Project Tiger Yojana

दोस्तों यह थी आज की Project Tiger Yojana के बारें में सम्पूर्ण जानकारी इस पोस्ट में आपको Project Tiger Yojana, इसकी सम्पूर्ण जानकारी बताने कोशिश की गयी है |

ताकि आपके Project Tiger Yojana  से जुडी जितने भी सारे सवालो है, उन सारे सवालो का जवाब इस आर्टिकल में मिल सके |

तो दोस्तों कैसी लगी आज की यह जानकारी, आप हमें Comment box में बताना ना भूले, और यदि इस आर्टिकल से जुडी आपके पास कोई सवाल या किसी प्रकार का सुझाव हो तो हमें जरुर बताएं |

और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी Social Media Sites जैसे- Facebook, twitter पर ज़रुर शेयर करें |

ताकि उन लोगो तक भी यह जानकारी पहुच सके जिन्हें Project Tiger Yojana पोर्टल की जानकारी का लाभ उन्हें भी मिल सके |

दोस्तों इस OnlineProsess.Com वेबसाइट पर Bihar से जुडी सभी जानकारी सरल भाषा में
अप लोगो तक पहुचाई जाती है|

Leave a Comment